म प्र बोर्ड कक्षा 10 प्रश्न पत्र उत्तर सहित विज्ञान 2016


 

म.प्र.बोर्ड क्लास 10 वी विज्ञान प्रश्न पत्र उत्तर सहित 2016

प्र.1   रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए- 5

1.    रासायनिक साम्य ..............पात्र में ही संभव है।

2.    .............. दर्पण की फोकस दूरी अनंत होती है।

3.    शुद्ध जल विद्युत् का ...................होता है।

4.    किण्वन क्रिया ..................की उपस्थिति में होती है।

5.    पौधों में पानी एवं खनिज लवणों का संवहन ..............द्वारा होता है।

उत्तर क्रमांक 1

1.    बंद पात्र

2.    समतल

3.    कुचालक

4.    एन्जाइम

5.    जाइलम

 

प्र.2   सही विकल्प चुनकर लिखिए-  5

1.    केंचुए में उत्सर्जी अंग होते है-

      .    यकृत  .    नेफ्रीडिया    

      .    फेफड़ा  .    त्वचा।

2.    मिट्टी के तेल में रखी जाने वाली धातु है-

      .    लोहा   .    ताँबा

      .    सोडियम      .    कैल्सियम।

3.    सप्तर्षि है एक-

      .    पुच्छल तारा   .    तारामण्डल

      .    ग्रह          .    निहारिका।

4.    मनुष्य की एक कोशिका में गुणसूत्र पाये जाते हैं-

      .    23 जोड़े            .    24 जोड़े

      .    20 जोड़े            .    22 जोड़े

5.    सूर्य के सबसे पास कौन-सा ग्रह है-

      .    बृहस्पति      .    बुध

      .    शनि         .    मंगल।

उत्तर क्रमांक 2

1.    नेफ्रीडिया

2.    सोडियम

3.    तारामण्डल

4.    23 जोड़े

5.    बुध

 

प्र.3   सही जोड़ी बनाइए।    5

            .          .   

      1.    हेली         - लोहा

      2.    बैकेलाइट     - मीथेन

      3.    उत्पादक       - हरे पौधे

      4.    हेमेटाइट       - कृत्रिम प्लास्टिक

      5.    बायोगैस       - एक धूमकेतु।

                      

उत्तर क्रमांक 3

                      

1.    हेली               एक धूमकेतु

2.    बैकेलाइट           कृत्रिम प्लास्टिक

3.    उत्पादक            हरे पौधे

4.    हेमेटाइट            लोहा

5.    बायोगैस            मीथेन

 

प्र.4   एक वाक्य में उत्तर दीजिए-   5

      1.    रक्त समूह के खोजकर्ता का नाम लिखिए।

      2.    स्वर्ण की शुद्धता को किसमे व्यक्त किया जाता है?

      3.    घरेलू परिपथ में किस प्रकार की विद्युत् धारा प्रवाहित की जाती है?

      4.    मछली के श्वसन अंग का नाम लिखिये।

      5.    ऋग्वेद में पौधों के किस गुण का वर्णन किया गया है?

 

उत्तर क्रमांक 4

1.    रक्त समूह के खोजकर्ता का नाम कार्ल लैण्डस्टेमर है।

2.    स्वर्ण की शुद्धता को कैरेट में व्यक्त किया जाता है।

3.    घरेलू परिपथ में प्रत्यावर्ती धारा प्रवाहित की जाती है।

4.    मछली के श्वसन अंग गिल्स (गलफड़े) है।

5.    ऋग्वेद में पौधे के औषधीय गुण का वर्णन किया है।

 

प्र.5.   वास्तविक एवं आभासी प्रतिबिम्ब में अन्तर लिखिये।  2

अथवा

वर्णक के प्राथमिक रंग कौन-कौन से है?

प्र.6   विभव किसे कहते हैं इसका S.I. मात्रक समझाइये। 2

अथवा

      ओह्म का नियम लिखिये।

प्र.7   विकृतिकृत ऐल्कोहॉल क्या है? 2

अथवा

      शीरे से ऐल्कोहॉल निर्माण में प्रयुक्त कोई दो एन्जाइम्स के नाम लिखिये।  

प्र.8   ‘तारे औरग्रहमें अंतर लिखिये।     2

अथवा

      पार्थिव ग्रह की विशेषताएँ लिखिये।

प्र.9   दूर दृष्टि दोष किसे कहते हैं? इसका कारण दीजिए। चित्र द्वारा समझाइये कि इसका निवारण कैसे किया जाता है?    4

अथवा

      संयुक्त सूक्ष्मदर्शी एवं दूरदर्शी में अन्तर लिखिये।

प्र.10  किसी चालक का प्रतिरोध किन-किन कारकों पर निर्भर करता है?    4

अथवा

विद्युत् धारा का उपयोग करते समय हमें कौन-कौन सी सावधानियाँ रखनी चाहिये?

प्र.11  नाभिकीय विखंडन एवं नाभिकीय संलयन में अंतर लिखिये।   4

अथवा

स्थायी गुंबद्नुमा बायोगैस संयंत्र का नामांकित चित्र सहित वर्णन कीजिये।

प्र.12  अमीबा में द्विखंडन विधि से प्रजनन को सचित्र समझाइये।  4

अथवा

मेण्डल ने अपने प्रयोगों के लिये मटर के पौधे का चुनाव क्यों किया? कोई चार कारण लिखिये।

प्र.13  शीघ्र सिरका विधि को चित्र सहित समझाइये। 4

अथवा

      रजत दर्पण परीक्षण क्या है? रासायनिक समीकरण सहित समझाइये।

प्र.14  (चभ्) मान से क्या तात्पर्य है? इसका महत्व लिखिये। 5

अथवा

      प्लास्टर ऑफ पेरिस का रासायनिक नाम, रासायनिक सूत्र, बनाने की विधि एवं दो उपयोग लिखिये।

प्र.15  ऑक्सीश्वसन एवं अनाक्सीश्वसन में अंतर लिखिये।   5

अथवा

      घटपर्णी में भोजन ग्रहण करने की विधि को चित्र द्वारा समझाइये।

प्र.16  रक्त के कार्यों का वर्णन कीजिये।     5

अथवा

      प्रतिवर्ती क्रियाविधि को चित्र सहित समझाइये।

प्र.17  .    अयस्क के सांद्रण की चुम्बकीय पृथक्करण विधि का वर्णन।  6

      .    फेंन उत्प्लावन विधि का वर्णन।

अथवा

      सल्फर निष्कर्षण के फ्रॉश प्रक्रम का चित्र सहित वर्णन कीजिये।

प्र.18  ओजोन परत किसे कहते हैं? इसको प्रभावित करने वाले पदार्थ का नाम तथा इसके दुष्प्रभाव को समझाइये। 6

अथवा

      निम्नलिखित पौधों का औषधीय महत्व लिखिये।

      1. अदरक, 2. अश्वगंधा, 3. पत्थरचट्टा, 4. बेल, 5. भंृगराज, 6. सौंफ।

......................

उत्तर क्रमांक

उत्तर क्रमांक 5

वास्तविक प्रतिबिम्ब व आभासी प्रतिबिम्ब में अन्तर-

क्र.    वास्तविक प्रतिबिम्ब                          

1.    इसे पर्दे पर प्राप्त किया जाता सकता है।          

2.    यह सदैव उल्टा बनता है।         

क्र.    आभासी प्रतिबिम्ब

1.    इसे पर्दे पर प्राप्त नही किया जा सकता है।

2.    यह सदैव सीधा बनता है।

उत्तर क्रमांक 6

- विभव -

परीक्षण धनावेश को अनंत से विद्युत क्षेत्र के किसी बिन्दु तक लाने में किये गये कार्य को उस बिन्दु पर विभव कहते है।

विभव का S.I. मात्रक वोल्ट है।

 

उत्तर क्रमांक 7

विकृतिकृत एल्कोहल - ऐसा एल्कोहल जिसमें कुछ विषैले पदार्थ जैसे मेथिन एल्कोहल (मेथनॉल), पिरीडीन, क्रॉपर  सल्फेट आदि मिला दिये जाते है, जिससे वह पीने योग्य नहीं रह जाता है। इसे विकृतिकृत एल्कोहल कहते है।

उत्तर क्रमांक 8

ग्रह और तारे में अन्तर निम्नलिखित है-

क्र.    तारे                                

1.    तारे स्वयं प्रकाश उत्सर्जित करते है।             

2.    तारे टिमटिमाते है।                           

3.    तारों की संख्या अगिनत है।                    

4.    ग्रहों की तुलना में इनका आकार बड़ा होता है।      

क्र.    ग्रह

1.    ग्रह का स्वयं का प्रकाश नहीं होता है यह सूर्य के प्रकाश को परावर्तित करते है।

2.    ग्रह टिमटिमाटे नहीं है।

3.    ग्रहों की संख्या आठ है।

4.    तारों की तुलना में इनका आकार बहुत छोटा है।

उत्तर क्रमांक 9

दूर दृष्टि दोष

जब मनुष्य को दूर की वस्तुएँ तो स्पष्ट दिखाई देती है, परंतु पास की वस्तुएँ स्पष्ट नहीं दिखाई देती है इसे दूर दृष्टि दोष कहते है।

दूर दृष्टि दोष के कारण

यह रोग निम्नलिखित में से किसी एक कारण से हो सकता है।

1.    लेंस से रेटिना की दूरी कम हो जाय अर्थात् नेत्र के गोले की त्रिज्या कम हो जाये।

2.    लेंस के पृष्टो की वक्रता कम हो जाए अर्थात् लेंस पतला हो जाए जिससे उसकी फोक्स दूरी बढ़ जाए तो यह दोष होता है।।

दूर दृष्टि दोष का निवारण -

 

चित्र

 निवारण-

इस दोष में लेंस की फोकस दूरी अधिक हो जाती है। जिससे लेंस की अभिसारी क्षमता कम हो जाती है। अतः इस दोष के निवारण के लिए ऐसा लेंस प्रयुक्त करना चाहिए जो नेत्र की अभिसारी क्षमता को बढ़ा दे अर्थात् उत्तल लेंस प्रयुक्त किया जाता है।

उत्तर क्रमांक 10

विद्युत धारा का उपयोग करते समय निम्नलिखित सावधानियाँ रखनी चाहिए।

1.    घर के सभी उपकरण भूसंपर्क तार से जुड़े होने चाहिए।

2.    घरेलू विद्युत परिपथ में प्रयुक्त विद्युत तार, प्लग, साकेट तथा होल्डर उच्च गुणवत्ता के होने चाहिए।

3.    घरेलू विद्युत परिपथ में लघपथन व अतिभारण से होने वाली हानि से बचने के लिए उचित गुणवत्ता के फ्यूज तार का उपयोग करना चाहिए।

4.    विद्युत परिपथ में स्विच ऑन और ऑफ करते समय हाथ व पैर गीले नहीं होने चाहिए।

5.    विद्युत परिपथ के सभी संयोजन ठीक से कसे होना चाहिए तथा कोई तार खुला नहीं होना चाहिए।

6.    घरेलू विद्युत उपकरण जैसे विद्युत प्रेस, मिक्सी आदि का उपयोग करते समय पैर में रबर या प्लास्टिक की चप्पल पहननी चाहिए।

उत्तर क्रमांक 11

नाभिकीय विखण्डन एवं संल्यन में अन्तर निम्नलिखित-

क्र.    नाभिकीय विखंडन                                             

1.    इसमें एक भारी नाभिक दो हल्क नाभिकों में विभक्त हो जाता है।        

2.    यह क्रिया सामान्य ताप पर सम्भव है।                 

3.    विखण्डनीय पदार्थ रेडियोधर्मी होते है।                         

4.    इसे नियंत्रित किया जा सकता है।                           

5.    अनियंत्रित विखण्डन क्रिया के आधार पर परमाणु बम बनाए गए है। 

नाभिकीय संलयन

1.    इसमें दो हल्के नाभिकीय परस्पर संयुक्त होकर एक भारी नाभिक बनाते है।

2.    यह क्रिया अति उच्च ताप पर संभव है।

3.    संलयन करने वाले पदार्थ रेडियोधर्मी नहीं होते है।

4.    इसे नियंत्रित करना कठिन होता है।

5.    अनियंत्रित संलयन क्रिया के आधार पर हाइड्रोजन बम बनाए गए है।

उत्तर क्रमांक 12

मेण्डल द्वारा मटर के पौधे को चुनने के कारण निम्नलिखित है-

1.    मटर का पौधा एक वर्षीय पौध है। तथा स्वरागित है।

2.    मटर का पौधा द्विलिंगी है। इसमें मादा तथा नर जननांग दोनों एक ही पुष्प में होते है।

3.    यह आसानी से उगाया जा सकता है।

4.    मटर के पौधे में विरोधी लक्षण पाये जाते है।

उत्तर क्रमांक 13

शीघ्र सिरका विधि -

एथिल एल्कोहल (               ) तनु विलयन की किण्वन क्रिया वायु की उपस्थिति में माइकोडर्मा एसीटी नामक जीवाणु द्वारा की जाती इस प्रकार एसीटिक अम्ल प्राप्त होता है।

समीकरण-

(                       )

विधि-

एक बाल्टीनुमा पात्र जिसके निचले भाग में कई छेद होते है। पुराने सिरके से भीगी लकड़ी की छीलन डालकर ऊपर से एथिल एल्कोहल का 10 प्रतिशत या उससे कम जलीय विलयन जिसमें थोड़ा अमोनियम सल्फेट मिला हो धीरे-धीरे नीचे गिराते है। इस प्रकार पात्र के अधर तल से सिरका प्राप्त होता है।

नामांकित चित्र-

 

उत्तर क्रमांक 14

प्लास्टर ऑफ पेरिस

रासायनिक नाम- कैल्शियम सल्फेट हेमीहाइड्रेट

रासायनिक सूत्र- CaSO4)2.H2O या CaSO4 ½ H2O

बनाने की विधि- जिप्सम को 100oC से अधिक ताप पर गर्म किया जाता है तो प्लास्टर ऑफ पेरिस प्राप्त होता है।

रासायनिक समीकरण

(    )

उपयोग -

प्लास्टर ऑफ पेरिस के उपयोग निम्नलिखित है-

1.    इसका उपयोग टूटी हड्डियों को जोड़ने में लगाये जाने वाले प्लास्टर में किया जाता है।

2.    दंत चिकित्सा के साँचे बनाने में इसका उपयोग होता है।

3.    मूर्ति आभूषण खिलौने सजावटी सामान आदि बनाने में इसका उपयोग होता है।

4.    अग्निसह पदार्थ में रूप में इसका उपयोग होता है।

उत्तर क्रमांक 15

ऑक्सीश्वसन और अनाक्सीश्वसन में अंतर इस प्रकार है-

क्र.    ऑक्सीश्वसन                                                       

1.    इस क्रिया में ऑक्सीश्वसन की आवश्यकता होती है तथा अधिकांश जीवों में यह क्रिया होती है।    

2.    भोज्य पदार्थों का पूर्ण ऑक्सीजन किया जाता है।

3.    अन्तिम उत्पाद (CO2) तथा पानी होते है।

4.    इस क्रिया में बहुत मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती है। 38 ATP अणुओ का लाभ होता है।

5.    समीकरण C6H12O6+6O2 → 6CO2 + 6H2O + 673 K.Cal ऊर्जा

क्र.    अनाक्सीश्वसन

1.    इस क्रिया में ऑक्सीजन की आवश्यकता नहीं होती है तथा बहुत कम जीवन में यह क्रिया होती है।

2.    भोज्य पदार्थों का अपूर्ण ऑक्सीकरण होता है।

3.    अंतिम उत्पाद CO2 तथा एल्कोहल होते है।

4.    इस क्रिया में बहुत कम मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती है। (2 ATP) अणुओं का लाभ होता है।

5.    समीकरण - C6H12O6 → 2CO2 H5OH +21 K.Cal

उत्तर क्रमांक 16

रक्त के कार्य निम्नलिखित है-

1.    रक्त भोजन का परिवहन करता है।

2.    रक्त ऑक्सीजन तथा कार्बनडाई ऑक्साइड का परिवहन करता है।

3.    रक्त अपशिष्ट पदार्थों का परिवहन करता है।

4.    रक्त जल का संतुलन बनाए रखता है।

5.    रक्त ऊष्मा तथा ताप को नियंत्रित करता है।

6.    रक्त क्षतिग्रस्त ऊतकों की मरम्मत करता है।

7.    रक्त तापमान का नियमन करता है।

8.    रक्त की क्षति होने पर क्षति पूरी करता है।

उत्तर क्रमांक 17

सल्फर निष्कर्षण की फ्रॉश विधि-

अमेरिका के लुसियाना क्षेत्र में गंधक (सल्फर) के भण्डार पृथ्वी के काफी गहराई में पाये जाते है। इस सल्फर को आसानी से तथा कम खर्च पर नहर निकालने के लिए फ्रॉश के गंधक पम्प का उपयोग करते है। इस विधि में लोहे के तीन समकेन्द्रीय पाईप पृथ्वी का खनन कर गंधक (सल्फर) के तल तक पहुँचा दिये जाते है। ऊपरी पाईप से (453k) तक गर्म किया हुआ जल प्रवाहित करते है। इससे गंधक पिघल जाता है। अब सबसे नीचे वाले पाईप से गर्म वायु प्रवाहित की जाती है तो गंधक बुलबुलों में बदल जाता है। जिसे बीच वाले पाईप से बाहर निकाल दिया है तथा लकड़ी के वर्तनों में ठण्डा कर लिया जाता है। इस प्रकार 99.5 प्रतिशत गंधक (सल्फर प्राप्त) होता है।

नामांकित चित्र-

 

 

उत्तर क्रमांक 18

ओजोन परत- समुद्र की सतह से 32 से 80 किमी की ऊँचाई पर एक परत पाई जाती है जो सूर्य की हानिकारक परागैंगनी किरणों से प्राणियों की रक्षा करती है। ओजोन परत कहलाती हे।

प्रभावित करने वाले पदार्थ- ओजोन परत को प्रभावित करने वाले पदार्थ क्लोरो-फ्लोरो कार्बन, सल्फर डाई ऑक्साइड कार्बन मोनो ऑक्साइड, हेलोजन 1301, नाइट्रोजन ऑक्साइड आदि है।

दुष्प्रभाव-

ओजोन परत क्षरण के दुष्प्रभाव निम्नलिखित है-

1.    ओजोन के क्षरण से सूर्य की पराबैंगनी किरणे सीधे हमारी त्वचा पर पड़ती है। इससे त्वचा का कैंसर हो जाता हैं

2.    यह किरणें हमारी आँखों को नुकसान पहुँचाती है। आँखों में मोतियाबिन्द जैसी बीमारी हो जाती है।

3.    इससे वनस्पतियों पर घातक प्रभाव पड़ता है। वनस्पतियां नष्ट हो जाती है।

4.    इससे अम्ल वर्षा होती है। जो बहुत घातक होती है। जिसका प्रभाव ऐतिहासिक महत्व की इमारतों पर पड़ता है।

5.    इससे वायु में गैसों का अनुपात बिगड़ता है।